Search This Website

Ayodhya case live update|अयोध्या केस लाइव अपडेट


खास बातें
1.     सुप्रीम कोर्ट ने मामले की 40 दिन की सुनवाई
2.     आखिरी दिन सभी पक्षों को बहस का मौका मिला
3.     नवंबर में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने की संभावना
नई दिल्ली
अयोध्या मामले (Ayodhya Case) में सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ आखिरी सुनवाई बुधवार को शाम चार बजे पूरी कर लीसुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले की सुनवाई पूरी करने के पश्चात अपना फैसला सुरक्षित रख लियासुप्रीम कोर्ट नवंबर में इस पर फैसला सुनाएगाआज कोर्ट की कार्यवाही शुरू होने के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने अन्य कुछ याचिकाओं पर सुनवाई से इनकार कर दिया और सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि अब बहुत हो चुकाहम शाम को पांच बजे उठ जाएंगेइसके बाद 40वें दिन कोर्ट में सुनवाई शुरू हुईपहले हिंदू पक्ष की ओर से अपनी दलीलें रखी गईं और उसके बाद मुस्लिम पक्ष ने दलीलें रखींसुनवाई के दौरान मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन ने हिन्दू महासभा के वकील विकास सिंह की ओर से पेश किए गए नक्शे को फाड़ दियाइसके बाद सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि अगर कोर्ट का डेकोरम नहीं बनाया रखा गया तो हम कोर्ट से चले जाएंगे.


Supreme Court Ayodhya Case Hearing Live Updates:


सूत्रों के मुताबिक मध्यस्थता पैनल ने भी अपनी रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी हैइसमें एक बड़ी ख़बर सामने  रही है कि सुन्नी वक्फ़ बोर्ड (Sunni Waqf Board) सरकार को जमीन देने को तैयार हो गया है
-सुप्रीम कोर्ट की संविधान पीठ ने अयोध्या के राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले की सुनवाई पूरी कीकोर्ट ने इस मामले में अपना फैसला सुरक्षित रख लिया
-17X21 का चबूतरा था.  सब बाहरी अहाते का हिस्सा थाजस्टिस चंद्रचूड़ ने नक्शा दिखाते हुए पूछालेकिन ये चबूतरा तो अंदर हैहिंदुओ को वहां तक एक्सेस भी थाधवन ने कहा कि ये गलत धारणा हैआपने शायद नक्शा गलत पकड़ा हुआ हैअब देखें मस्जिद के दोनों ओर कब्रिस्तान है और हमारी मस्जिद यहां से शुरू होती हैचबूतरा बाहरी अहाते में ही है.
जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि आप जो मैप दिखा रहे हैं उसमें चबूतरा इनर कोर्ट यार्ड में थाराजीव धवन ने कहा कि चबूतरा भी मस्जिद का हिस्सा हैमस्जिद की दीवार कब्रगाह के पास से शुरू होती है.
-धवन ने कहा वो मस्जिद थीहमारी थीअब हमारे पास ही उसके पुनर्निर्माण का अधिकार हैइमारत भले ढहा दी गई हो लेकिन जमीन का मालिकाना हक हमारा हैअब हम 1994 तक पीछे नहीं जा सकतेरिसीवर व्यवस्था सही नहीं थी.
राजीव धवन ने कहा कि वो मोल्डिंग ऑफ रिलीफ़ के तहत बाबरी मस्जिद को फिर से बनाने की मांग कर रहे हैंमस्जिद को दुबारा बनाने के अधिकार हैं भले अभी वहां मस्जिद नहीं है लेकिन अभी भी ये जमीन वक्फ की हैहम बाबरी विध्वंस के पहले की स्थिति चाहते हैं.
-राजीव धवन ने कहा कि सेवायत को हिन्दू धर्म में सिर्फ पूजा का अधिकार हैइस्लाम की तरह उसे मुतवल्ली जैसे अधिकार नहीं मिल सकतेधवन बस बहस खत्म करने वाले हैं.
-राजीव धवन ने परासरन की बाहर से आए बाबर की ऐतिहासिक गलती को सुधारने की दलील पर कहा कि हम हिंदू और मुस्लिम शासकों में कैसे अंतर कर सकते हैंसन 1206 में सल्तनत शुरू हुई, 1206 के बाद से मुसलमान मौजूद थेइस्लाम ने उन लोगों के लिए आकर्षण पैदा किया जो छुआछूत से परेशान थेबाबर ने लोधी के साथ युद्ध किया जो एक मुस्लिम थाभारत सिर्फ एक नहीं था यह बहुतों का मिश्रण था.
-धवन ने कहा कि मेरी याचिका सिर्फ टाइटल के लिए नहीं हैकई अन्य पहलू हैंये घोषणा एक सार्वजनिक वक्फ के लिए हैयह एक सार्वजनिक मस्जिद थीइसमें मस्जिदजमीन और कई चीजें शामिल हैंयदि हिंदू 1855 से पहले टाइटल साबित करने में सक्षम हैं  तो मैं इसके जवाब में दो शताब्दियों से अधिक पहले से ही जगह का मालिक हूं.
-राजीव धवन ने कहा कि आक्रमणकारियों की बात हो तो सिर्फ नादिर शाहतैमूर चंगेज़ और अंग्रेज ही नहीं बल्कि आर्यों तक जाना होगालेकिन ये लोग सिर्फ एक खास तरह के लोगों को ही आक्रमणकारी मानते हैंआर्यों को आक्रमणकारी मानने से उनको परहेज़ हैजब मीर कासिम आया तो भारत एक देश नहीं बल्कि टुकड़ों में थाशिवाजी के समय राष्ट्रवाद की धारणा बढ़ी.
राजीव धवनजमींदारी और दीवानी ज़माने के कायदे देखें तो जमीन के मालिक को ही ग्रांट मिलती थी
जस्टिस चंद्रचूड़-ग्रांट से आपके मालिकाना हक की पुष्टि कैसे होती है
राजीव धवन ने फैसले के अनुवाद पर भी उठाए सवालपीएन मिश्रा ने अनुवाद को जायज़ और सही ठहराते हुए एक पैरा पढ़ाधवन ने कहा मिश्रा जी हम आपको सुन चुके हैंअब कुछ और सुनाने की ज़रूरत नहींबाबर के द्वारा मस्जिद के निर्माण के लिए ग्रांट और लगान माफी गांव देने के दस्तावेज हैं
पीएन मिश्रा ने आपत्ति जताई तो धवन ने कहा कि इनकी दलील मूर्खतापूर्ण हैक्योंकि इनको भूमि कानून की जानकारी नहीं हैमिश्रा ने कहा कि वो भूमि कानून पर दो-दो किताबें लिख चुके हैं और मेरे काबिल दोस्त कह रहे हैं कि मुझे इसकी जानकारी ही नहींधवन ने कहा कि आपकी किताबों को सलाम है आप उन पर पीएचडी भी कर लें
धवन ने हिन्दू पक्षकारों की दलीलों का जवाब देते हुए कहा कि यात्रियों की किताबों के अलावा इनके पास टाइटल यानी मालिकाना हक का कोई सबूत नहींइनकी विक्रमादित्य मन्दिर की बात मान भी लें तो भी ये रामजन्मभूमि मन्दिर की दलील से मेल नहीं खाता. 1886 में फैज़ाबाद कोर्ट कह चुका था कि वहां हिन्दू मन्दिर का कोई सबूत नहीं मिलाहिंदुओं ने उसे चुनौती भी नहीं दी.
धवन ने ट्रांसलेशन हुए दस्तावेजों पर सवाल उठाते हुए कहा कि एक-एक दस्तावेज़ के चार चार मतलब हैंहमारा अनुवाद ही सही हैइन्होंने तो सब कुछ अपने मुताबिक बर्बाद कर दिया हैबाबर की जगह बाबर शाह और वक़्फ़ के भी अलग मतलब बताए हैंउर्दू के भी हिंदी वर्ज़न लिखे हैं.
राजीव धवन- 6 दिसंबर 1992 को जिसे नष्ट किया गया वो हमारी प्रोपर्टी थीहम कह चुके हैं कि मुस्लिम वक़्फ़ एक्ट 1860 से ही ये सारा गवर्न होता हैवक़्फ़ सम्पत्ति का मतवल्ली ही रखरखाव का जिम्मेदार होता हैउसे बोर्ड नियुक्त करता हैसनद यानी रजिस्टर में रज्जब अली ने मस्जिद के लिए फ्री लैंड वाले गांव की ज़मीन से 323 रुपए की आमदनी ग्रांट के तौर पर दर्ज की है.
राजीव धवन ने नक्शा फाड़ने को लेकर कहामैंने कहा था कि मैं इसे फेंक रहा हूंचीफ जस्टिस ने कहा कि जो करना है करोतो मैंने फाड़ दियाअब वो सोशल मीडिया पर चल रहा हैइस पर सीजेआई रंजन गोगाई ने कहा कि आप सफाई दे सकते हैं कि CJI मे फाड़ने को कहा थावहींजस्टिस नजीर ने कहा कि ये खबर वायरल हो रही हैहमने भी देखी है.
मुस्लिम पक्ष की तरफ से राजीव धवन ने बहस शुरू कीराजीव धवन ने कहा कि धर्मदास ने केवल ये साबित किया कि वो पुजारी है  कि शबैतहिन्दू महासभा की तरफ से सरदार रविरंजन सिंहदूसरविकास सिंहतीसरा सतीजा और चौथा हरि शंकर जैन चार लोगों के सबूत दिए हैये साबित नहीं कर पा रहे है कि वे किस महासभा को लेकर बहस कर रहे हैइसका मतलब है महासभा 4 हिस्सों में बंट गया हैक्या दूसरी महासभा इसको सपोर्ट करता है?
पी एन मिश्रा ने कहा मुस्लिम पक्ष के पास कब्जे को लेकर कोई अधिकार नहीं हैलेकिन हिन्दू पक्ष के पास सबूत हैंजहांगीर के समय यात्री विलियम फिलिमच ने देखा था कि वहां हिन्दू पूजा कर रहे थे. 1858 के गजेटियर में ये पहली बार सामने आया कि मुस्लिम और हिन्दू दोनो वहां प्राथना करते थेउसके पहले मुस्लिम वहां नमाज़ अदा करते थे इसके सबूत नहीं थे.
साथ ही पीएन मिश्रा ने कहाहमारी पूजा हमेशा चलती रही है लेकिन मुस्लिम के संबंध में ऐसा कोई सबूत नहीं है
जस्टिस बोबड़े ने कहा कि आप क्रोनोलॉजी पर बहस  करेंअपनी बातें लिखित में कोर्ट में दाखिल करें.
जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा कि आप इस्लामिक लॉ पर बहस  करेंआप लिमिटेशन पर बहस करें.
पीएन मिश्रा ने कहा कि इस बात के कई सबूत है कि सैकड़ों की संख्या में साधु थे जो मुस्लिम को नमाज के लिए नहीं जाने देते थेलिमिटेशन को लेकर कोर्ट के कई फैसले हैंलिमिटेशन का समय सीमा 6 साल होती है.
अखाड़ा के सेवादार के अधिकार को किसी ने भी चुनौती नहीं दी है सिर्फ सुन्नी वक़्फ़ बोर्ड ने वहां पर अपने अधिकार की मांग की
सुशील जैनहमारा दावा मन्दिर की भूमि और स्थाई सम्पत्ति पर मालिकाना अधिकार और सेवायत के अधिकार को लेकर हैमुस्लिम पक्षकारों के इस दावे में भी दम नहीं कि 22/23 दिसंबर 1949 की रात बैरागी साधु जबरन इमारत में घुसकर देवता को रख गएये मुमकिन ही नहीं कि मुसलमानों के रहते इतनी आसानी से वो घुस गएजबकि 23 दिसंबर को जुमा था.
निर्मोही अखाड़े की कहानी शिवाजी महाराज से शुरू हुईजस्टिस बोबड़े ने कहा कि यहां इसका क्या संबन्ध है
सुशील जैनहम भले कुछ कमजोर हुए पर शिवाजी महाराज के राज में हम शक्तिशाली थेकोई सबूत नहीं कि बाबर ने अयोध्या में मस्जिद बनाई
जस्टिस चंद्रचूड़आप मस्जिद बनाने को लेकर नहीं डेडिकेशन यानी समर्पण /लोकार्पण को लेकर जवाब देंमस्जिद का नाम भी जन्मभूमि मस्जिद हैपूरी इमारत को किसी ने डेडिकेट नहीं कियाये यूजर्स डेडिकेशन है.
विकास सिंहबाबर उदार लेकिन औरंगजेब कट्टर शासक थाबाबरनामा में ऐसी कोई बात का जिक्र नहीं मिलता.

साल 1860 का अंग्रेज़ी हुकूमत के ग्रांट का बोर्ड ऑफ कंट्रोल का दस्तावेज कोर्ट के सामने रखा जिसमे मुसलमानों ने ग्रांट का ज़िक्र किया हैजबकि 1858 में बोर्ड भंग हो गया था तो 1860 में कैसे दस्तावेज़ जारी हुआ. 1863 में भी ऐसा ही दिखाया गया और उसे मस्जिद पर कब्जे और मालिकाना हक का आधार बताया गया.
विकास सिंह ने बुकानन और स्त्रम थेलर की किताबों के हवाले से कहा कि इनमें रामजन्म स्थान की लोकेशन हैतो धवन बोले कि आपने कोर्ट में मजाक बना रखा हैऑक्सफोर्ड की किताब के हवाले से भी विकास सिंह ने राम जन्मस्थल की सही जगह बताई
विकास सिंह ने कोर्ट को बुक दी. CJI ने कहा कि वो नवंबर में इस किताब को पढेंगेविकास सिंह के कहा कि फैसले से पहले इस किताब को पढ़िएगाराजीव धवन के बार बार टोकने पर विकास सिंह नाराज हो गएऔर कहा कि हमारे पास कम समय है उसके बाद भी राजीव धवन बार बार टोक रहे है.
हिन्दू महासभा की तरफ से वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने बहस शुरू कीविकास सिंह ने किशोर कुणाल की लिखी किताब को रिकॉर्ड पर कोर्ट के समक्ष रखने की पेशकश कीमुस्लिम पक्ष ने इसका विरोध कियाराजीव धवन ने कहा ये नई किताब है
रंजीत कुमारजन्मभूमि का महत्व भी कैलास मानसरोवर जैसा हैमैं वहां गया तो देखा कि हिन्दू ही नहीं बौद्ध भी उस पर्वत की पूजा उपासना करते हैंबौद्ध वहां के पत्थरों पर पताका लगाकर उसे ज्वेल ऑफ स्नो या रिन पो छे कहते हैंपूरा पर्वत बिना किसी प्रतिमा के पवित्र और पूजनीय स्थल माना जाता है.
मध्यस्थता पैनल ने सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट दाखिल की
सी एस वैधनाथन के बाद गोपाल सिंह विशारद के वकील रंजीत कुमार बहस ने बहस शुरू की. CJI ने रंजीत कुमार को कहा कल आपने कहा था कि आप केवल 2 मिनट बहस करेंगेरंजीत कुमार ने कहा कि दो मिनट में बहस कैसे पूरा करूंगा. CJI ने मुस्कुराते हुए कहा कि कल तो आप 2 मिनट कह रहे थे
सी एस वैधनाथन ने बहस पूरी करते हुए कहा कि बिना संपति के मालिक हुए 'मुस्लिम पक्ष मालिकाना हक का दावा कर रहा है.'
सवा ग्यारह बजते ही राजीव धवन ने खड़े होकर कहा कि 45 मिनट हो गए हैंअब इनकी बहस का समय खत्म हो गया. CJI ने मुस्कुराते हुए कहा अभी 10 मिनट बचे हैंक्योंकि हम दस मिनट देर से बैठे थे.
वैद्यनाथन ने अपनी बहस आगे बढ़ाई तो CJI ने आगाह किया कि 5 मिनट में अपना जवाब पूरा कर लें.
वैद्यनाथनहालांकि दोनों पक्ष वहां उपासना कर रहे थेलेकिन मस्जिद को वक़्फ़ करने या डेडिकेशन का कोई प्रमाण या सबूत किसी के पास नहीं है.

वैधनाथनट्रांसलेशन को लेकर 8 वर्षों से कोई आपत्ति नहीं जताई गईमुस्लिम पक्षकारों को जिरह करने का पर्याप्त अवसर दिया गयामुस्लिम कह रहे है कि हमने उन्हें वहां से हटाने की कोशिश कीवक्फ वह सिर्फ दावा कर रहे हैउनको दस्तवेज़ दिखाना चाहिएउनकी तरफ से माना गया कि हिन्दू वहां पूजा कर रहे थे और हिंदुओं को वहां से हटाने की कोशिश की गई.
वैधनाथनअगर हम जन्मस्थान पर विश्वास नहीं करेंगे तो फिर हम कहां करेंगेरामलला विराजमान ने दावा किया 1934 तक ही विवादित स्थल पर नवाज हुई.
हिंदू पक्ष के वकील सी एस वैद्यानाथन का जवाबमुस्लिम कहते हैं कि राम चबूतरा भगवान राम का जन्मस्थान थायह छोटी जगह को बांटने का एक प्रयास थाश्रद्धालु आंतरिक गुबंद में भी पूजा अर्चना करते रहे हैं.
सी एस वैद्यानाथनहम आंतरिक आंगन में प्रार्थना कर रहे थेलेकिन बाद में रेलिंग के कारण और कानून और व्यवस्था की समस्याओं को हल करने के लिए लगाए गए प्रतिबंध के कारण ये बंद हो गयाविवादित स्थल में 1949 तक वहां अंदर मूर्ति नहीं थी और साप्ताहिक नमाज़ होती थी.
हाईकोर्ट के फैसले के हवाले से वैद्यनाथन ने सुन्नी बोर्ड के दावे को काटते हुए कहा कि जब ज़मीन का मालिक तत्कालीन हुकूमत थी और उन्हीं की देखरेख में मस्जिद बनाई गई तो सुन्नी बोर्ड ने उसे कैसे डेडिकेट किया
अयोध्या मामले पर सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा कि अब बहुत हो चुकाहम पांच बजे उठ जाएंगे
सुप्रीम कोर्ट ने कुछ अन्य अर्जियों पर सुनवाई से किया इनकार



To Get Fast Updates Join Our Social Media: Telegram | WhatsApp | Facebook

0 comments:

Post a Comment

Please Comment Your Questions, Queries or Suggestions

Popular Posts